प्रेम अदीब: उस ज़माने के राम

महात्मा गांधी ने अपने पूरे जीवन में जो एकमात्र फिल्म देखी, वो थी प्रेम अदीब की ‘राम राज्य’. फिर कौन थे, प्रेम अदीब?

View

जीवन में मां से बेहतर कौन हो सकता है?

हम अपने दुःख में और सुख में खोए रहते हैं. न तो मां का आंचल याद रहता है और न ही उन गांठों को खोलकर मां का वो चवन्नी अठन्नी देना. लेकिन हमारे पास उन्हें देने के लिए कुछ नहीं है. हमारे बटुओं में सिर्फ झूठ है, गुस्सा है, अवसाद है, अपना बनावटी चिड़चिड़ापन है.

View

मंटो – ‘वाय आई राइट’

मंटो आकार पटेल

सआदत हसन मंटो की ‘वाय आई राइट’ किताब को लेखक आकार पटेल ने संपादित और अनुवादित किया है. उपमहाद्वीप के महान लेखकों में से एक, मंटो के कथेतर लेखों का यह ऐसा दुर्लभ संग्रह है जिसके अनेकों लेख आज तक अप्रकाशित ही रहे. इन लेखों का अनुवाद करते समय आकार पटेल ने मंटो के जादुई लेखन को साकार करते हुए ज़िन्दगी की हकीकत को जमीनी चीजों के साथ सहेजा है.

View

वैज्ञानिक सोच को कैसे बढ़ावा दें?

G Caffe Branding Consultancy

नवाचार और प्रगति के लिए वैज्ञानिक सोच को बढ़ावा देना आवश्यवक है. वैज्ञानिक सोच चिंतन और उसके क्रियान्वयन का एक तरीका है. इसके लिए भौतिक वास्तविकताओं का आकलन, पूछताछ, परीक्षण, परिकल्पना और विश्लेषण जैसी विशेष पद्धतियों का सहारा लिया जा सकता है.

View

कैसे करें पूजा प्रार्थना?

प्रार्थना में शक्ति

प्रार्थना आत्मिक साधना है जो कठोर ह्रदय को भी परिवर्तित कर देता है. प्रार्थना का अर्थ परमेश्वर से जुड़ना है. हम जितना परमेश्वर के नजदीक जाएंगे वो हमें उतनी आशीष देगा. इसलिए हमें नित्य प्रार्थना करनी चाहिए.

View