क्या औरतें पुरुषों की तरह इंसान नहीं?

What means to be an Indian woman

एक अनजान पुरुष हो या पुलिस वाला, सभी लुक देते हैं. इज़्ज़त सिर्फ औरतों से ही क्यों जुड़ी है? सारे डर हमारे लिए ही क्यों? पुरुष की इज़्ज़त नहीं होती, क्या?

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

क्यों हर कोई सुंदर दिखना चाहता है?

सुंदरता देखने वाले की नज़रों में होती है, और अगर हम अपने आप को और इस विश्व को सुंदर देखना चाहते हैं तो हमें अपनी नज़र और नजरिया दोनों बदलने की आवश्यकता है.

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

बेहतर लिखना चाहते हैं?

creative writing

ई-मेल लिखने को भी ‘कला’ की संज्ञा दी गई है. लेखन कला सभी की स्वाभाविक प्रतिभा नहीं होती. कई लोगों को लिखने में दिलचस्पी तो होती है मगर वे शब्दों से अपनी भावना व्यक्त नहीं कर पाते.

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

क्या आप यहां वहां थूकते रहते हैं?

spitting

पूरे देश में थूकने पर पाबंदी क्यों नहीं लगती? कैसा हो अगर दोषियों द्वारा फैलाई हुई गंदगी उन्हीं से साफ करवाई जाए? पान की पीक से सनी दीवारें अब कहां नहीं दिखतीं?

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें

आधुनिक मीरा महादेवी वर्मा

महादेवी वर्मा

गत शताब्दी की सबसे प्रभावशाली कवयित्रियों में से एक महादेवी वर्मा साहित्यकार  होने के साथ-साथ एक बेहतरीन चित्रकार और अनुवादक भी थीं.

आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें