ख़ास है जनपथ मार्केट

कल शाम जब मैं दिल्ली के व्यस्त कनाट प्लेस मार्केट से गुजर रहा था तो अचानक याद आया कि मुझें सर्दियों के कपड़े खरीदने है. तभी मेरे दिमाग में आया कि मैं जनपथ मार्केट जाऊं. हालांकि मैं पहले भी जनपथ जा चुका हूँ लेकिन वहां आज तक कोई कपड़े नही खरीदे. मैं अकेला था और मेरे  कदम जनपथ की ओर चल पड़े.

मौसम सर्दियों का है तो चारो ओर सर्दियों के ही कपड़े दिखाई दे रहे थे. ऐसा लग रहा था जैसे मैं वूलन डिजाइनर ड्रेसेज मार्केट में आ पहुंचा हूँ. प्रवेश करते ही मुझे लड़कियों के कपड़े और गहनों की दुकानें दिखाई दी. आगे बढ़ने पर लड़कों के कपड़ों की दुकाने भी दिखाई दी. यहां डिजाइनर ड्रेसेज, जूलरी, डेकोरेटिव आइटम और फूट वेअर की अनेकों दुकाने दिखाई देने लगी.

इस मार्केट की खासियत यह है कि अगर आप ब्रांड के कपड़े अफोर्ड नही कर सकते तो इस मार्केट में समान ब्रांड के सामान सस्ते दामों में मिल जाते है जो आपके जेब पर भी भारी नहीं होते और आपका मन भी खुश हो जाता है. यहाँ समानों के न्यूनतम मूल्य 10 रुपये से शुरू होता है.  कपड़े यहां 150 रुपये से प्रारम्भ होकर हजारों की कीमत तक मिल जाते हैं. फैंसी फूट वेयर यहाँ 300-500 में भी मिल जाते हैं.

मैंने सोचा कि जनपथ मार्केट सभी लोग आते है – देश विदेश सभी से. लेकिन एक बात जो मेरे मन बहुत खटकी वह थी कि अगर मुझसे कोई पूछे कि इसका इतिहास क्या है तो शायद मुझे जानकारी नहीं होगी. वहां के दुकानदारों से मैंने पूछा तो लगभग सभी का कहना यही था कि यह मार्केट अंग्रेजों के समय से ही थी. चूंकि यह स्थान दिल्ली का केंद्र था तो सामान खरीद फरोख्त करने के लिए इस बाजार की स्थापना की गयी जो अंग्रेजों को बहुत भा गयी थी. बस ज्यादा जानकारी मुझे भी नहीं मिल पाई.

जब मैं इन दुकानों को देखते हुए आगे बढ़ा तो मुझे एक दुकान पर टंगे हुए स्वेटर दिखाई दिए जो मुझे पसंद आये लेकिन दुकान पर इतनी भीड़ थी कि  मुझे वहां जाने में परेशानी हो रही थी. रात के 8 बज चुके थे और भीड़ ख़त्म होने का नाम नही ले रही थी. भीड़ में ही मैंने भी पूछ ही लिया कि इसकी क्या कीमत है. उसने 1000 रुपये बताया. मोल-भाव के बाद 750 रुपये में बात तय हो गई. मैंने अपने लिए स्वेटर लेकर आगे बढना शुरू किया.

एक बहुत ही अच्छी बात जो इस बाजार में है कि यहां आप मोल-भाव करना जरूर सीख सकते हैं. मैंने देखा कि विदेशी पर्यटक जो यहां पर आए थे, वह भी मोल-भाव कर रहे थे. लेकिन कुछ दुकान वाले उन लोगों को ठगने की कोशिश कर रहे थे जो बात मुझे अच्छी नहीं लगी.

अगर आप जनपथ मार्केट जा रहे है तो कुछ बातों पर ध्यान दें:

1. समान खरीदते समय बारगेनिंग जरुर करें;

2. कपडे खरीदते समय उसे अच्छी तरह देख लें;

3. भीड़ भाड़ के कारण अपने सामान पर ध्यान दें;

4. कुछ लेने से पहले पूरे बाज़ार का मुआयना जरुर कर लें.

जनपथ मार्केट दिल्ली की शान है और यह बहुत ही शानदार है. एक बार जो भी यहां आता है तो वह अपने साथियों को जरूर इस मार्केट के बारे में बताता है. सबसे बड़ी खूबी यह कि यह मार्केट दिन प्रतिदिन अपने सौन्दर्य को बढ़ाता जा रहा है. रात में तो यहां की खूबसूरती और बढ़ जाती है.

रात को 9.30 बजे के बाद मार्केट बंद हो जाता है जो एकदम सही समय है. यहां सुरक्षा चाक चौबंद रहती है और दिल्ली पुलिस भी सेवा में हाज़िर रहती है. जनपथ मार्केट में आपको कोई परेशानी नहीं होगी.

– अमरेन्द्र भारद्वाज | 2 जनवरी, 2012 | दिल्ली

भारत बोल रहा है