हे पांड्या !

आज पूरा देश क्रिकेटर हार्दिक पांड्या और कन्नूर लोकेश राहुल से पूछ रहा है कि जब तुम्हारा करियर सरपट दौड़ रहा था तो ऐसा क्यों किया. टीवी टॉक शो में पांड्या और राहुल द्वारा की गई आपत्तिजनक टिप्पणियों पर आप क्या कहेंगे?

अपने जीवन की सबसे बड़ी उथल पुथल मचने के बाद पांड्या और राहुल खुद से पूछ रहे होंगे कि तुमने ऐसा क्यों किया. लेकिन कोई करण जौहर से नहीं पूछ रहा है कि अपने शो को चर्चा में बनाए रखने के लिए उन्हें इन क्रिकेटरों से ऐसा सवाल पूछने की क्या जरूरत थी!

  • क्रिकेट बदनाम हुआ पांड्या तेरे लिए
  • करण जौहर उकसाते रहे और पांड्या बहकते चले गए
  • पांड्या कई ब्रैंड्स से जुड़े हुए हैं वहीं राहुल जर्मन स्पोर्ट्सवियर ब्रैंड पूमा और फिटनेस स्टार्टअप क्योरफिट के विज्ञापन करते हैं

पांड्या और राहुल की इस शो में महिलाओं पर अभद्र टिप्पणी ने यह भी सवाल उठाया है कि क्रिकेटर किस तरह की संस्कृति से गुजर रहे हैं. क्या उन्हें खेल से मिल रही बेशुमार दौलत और लोकप्रियता बिगाड़ रही है या फिर उनमें उस शिक्षा व संस्कार का अभाव है जो एक खिलाड़ी को सभ्य बनाए रखने के लिए जरूरी है!

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने अपनी छवि को बनाए रखने के लिए सख्त कदम उठाकर इन दोनों क्रिकेटरों को जांच पूरी होने तक के लिए निलंबित कर दिया.

पांड्या से जब कॉफी विद करण शो के एंकर करण जौहर ने क्लब में जाने पर महिलाओं के बारे में पूछा था तो भारतीय क्रिकेटर ने बहुत ही शान से बताया था कि वह महिलाओं को देखते हैं कि वह क्या करती हैं.

ऑलराउंडर ने साथ ही मजाकिया लहज़े में कहा था कि वह अपने माता-पिता के सामने खुलकर अपनी शारीरिक गतिविधियों की चर्चा करते हैं और किसी महिला के साथ शारीरिक संबंध बनाने के बाद परिजनों को इस बारे में चुटकी लेकर बताते भी हैं.

इस एपिसोड के टीवी पर प्रसारित होने के तुरंत बाद से पांड्या को चौतरफा आलोचना झेलनी पड़ी जिनमें मुख्य रूप से महिलाओं ने उनके बयान को अशोभनीय, अपमानजनक और लैंगिकवादी बताया. पांड्या पर आलोचनाओं के बाउंसर पड़ने लगे तो उन्होंने कहा कि वह भावनाओं में कुछ ज्यादा ही बह गए थे क्योंकि यह शो ही ऐसा था, लेकिन वह किसी को भी दुख नहीं पहुंचाना चाहते थे.

Karan-Johar-koffee with karan-hardik pandya kl rahul sexist tv show

क्रिकेट का पहला सिद्धांत है कि जो बॉल सामने से आ रही है उसे देखकर और समझकर खेलो.

ऑलराउंडर ने कहा, “कॉफी विद करण शो पर मैंने जो भी टिप्पणियां कीं उसके लिए मैं सभी संबंधित लोगों से माफी मांगना चाहता हूं, जिन्हें मैंने दुख पहुंचाया. सच कहूं तो मैं शो पर कुछ अधिक ही भावनाओं में बह गया. मेरा मकसद किसी को भी अपमानित करना और किसी की भावनाओं काे दुख पहुंचाना नहीं था.”

क्रिकेट में बल्लेबाज जिस तरह ख़राब शॉट खेलकर अपना विकेट गंवाता है उसी तरह पांड्या और राहुल एक खराब जवाब से अपना विकेट गंवा चुके हैं. दोनों को जांच पूरी होने तक निलंबित कर दिया गया, उन्हें ऑस्ट्रेलिया से स्वदेश भेजा गया, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड का दौरा उनके लिए समाप्त हो गया और यदि जांच के बाद उन पर कड़ा फैसला लिया गया तो उन्हें आईपीएल और उसके बाद विश्व कप से भी बाहर होना पड़ सकता है.

क्रिकेट का पहला सिद्धांत है कि जो बॉल सामने से आ रही है उसे देखकर और समझकर खेलो, आंख बंद कर मारने से विकेट चला जाता है. करण जौहर तो गुगली डाल रहे थे और पांड्या ने गुगली को समझे बिना ही शॉट खेल दिया नतीजा उनके सामने है.

यदि उन्होंने सवाल को समझा होता तो शायद ऐसा जवाब नहीं देते. शायद बहुत कम समय में मिली शोहरत ने पांड्या को ऐसे हालात पर पहुंचा दिया जहां उन्हें लगा कि वे कुछ भी कहेंगे जनता उन्हें सर-आंखों पर बैठाती रहेगी.

दरअसल आईपीएल से मिल रही अथाह दौलत ने कई क्रिकेटरों के दिमाग को बिगाड़ा है. आईपीएल से मिल रहे करोड़ों, स्टारडम, आईपीएल पार्टियों में सुंदरियों से मुलाकात, फैशन और ग्लैमर  की चकाचौंध ने पांड्या और राहुल को इस हालात तक पहुंचा दिया जहां वे अपना अच्छा-बुरा भूल गए.

भारत बोल रहा है