बॉलीवुड सिनेमा पुरुष प्रधान क्यों है?

English-Vinglish-Movie-SriDeviइस बात में कोई दो राय नहीं कि बाकी व्यवसायों की तरह हिंदी सिनेमा जगत भी लिंगवादी और पुरुष प्रधान रहा है. फिल्म की सफलता की संपूर्ण जिम्मेदारी अभिनेता के कंधे पर डाल दी जाती है. अभिनेत्री को फिल्म में सौंदर्य और ग्लैमर की दृष्टि से चुना जाता है. हालांकि बॉलीवुड फिल्मों में अभिनेत्रियों को अहम स्थान देने का श्रेय जाता है बिमल रॉय और हृषिकेश मुख़र्जी को जिन्होंने सुजाता, बंदिनी, मिली, गुड्डी और ख़ूबसूरत जैसी मंजुल फिल्मों के निर्माण से औरत को सिनेमा जगत में अव्वल दर्जा प्रदान किया. वहीं बॉलीवुड में दमदार छवि के लिए प्रसिद्द निर्माता-निर्देशक सुधीर मिश्रा का कहना है कि महिला प्रधान फिल्म बनाना टेढी खीर है.

औरत प्रधान फिल्में बनाना और वह भी बिना किसी चोटी के अभिनेता को लिए, यह बॉलीवुड फिल्म निर्माताओं के लिए आत्मघात से कम नहीं समझा जाता है. इसके बावजूद 2012 में आई सुजॉय घोष द्वारा निर्देशित फिल्म कहानी जिसने बॉलीवुड के हिंदी सिनेमा का रुख बदल दिया. रहस्यमयता से भरपूर इस थ्रिलर में विद्या बालन मुख्य किरदार में नज़र आईं थीं. गौरतलब है कि कहानी में विद्या बालन के विपरीत कोई भी बड़ा हीरो नहीं था. परमब्रता चटर्जी और नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी लघु भूमिका में ही उनके साथ दिखे.

इससे  पहले विद्या बालन द डर्टी पिक्चर में भी काम कर चुकी थीं जो कि महिला प्रधान फिल्म थी. यह दिलचस्प है कि लिंगवादी फ़िल्मी जगत ने विद्या बालन को हीरो की उपाधि दे दी. बहरहाल, कहानी के साथ दर्शकों ने महिला प्रधान फिल्मों को अपनाना शुरू तो किया. और उसी साल आई गौरी शिंदे द्वारा निर्देशित फिल्म इंग्लिश विंगलिश. इसे भी खूब सराहना मिली. इंग्लिश विंगलिश श्रीदेवी की कमबैक फिल्म थी.

फिर, 2014 में आई कंगना रनौत की क्वीन जिसे समीक्षकों और दर्शकों ने बेहद पसंद किया. और इसी के साथ कंगना को बॉलीवुड की क्वीन का टैग मिला.

मदर इंडिया (1957), आंधी (1957), भूमिका (1977), अर्थ (1982), मिर्च मसाला (1987) और दामिनी (1993) महिला प्रधान फिल्में थीं लेकिन इनमें चोटी के नायक भी रखे गए थे.

Bharat Bolega watchहमेशा से बॉलीवुड पर पुरुष प्रधान होने का आरोप लगता रहा है.

Bharat Bolega watchहिंदी फिल्मों के नायक हमेशा लार्जर दैन लाइफ होते रहे हैं.

Bharat Bolega watchबॉलीवुड में कोई ही मैन, तो कोई एंग्री यंग मैन और कोई रोमांस का बादशाह बनता है लेकिन नायिकाओं के लिए ऐसे शब्द कभी कभार ही मिलते हैं.

बॉलीवुड में अब धीरे-धीरे हिंदी सिनेमा में महिला प्रधान फिल्मों की लहर दिखने लगी है. जहां कहानी-2, अनारकली ऑफ आरा और पार्च्ड ने इस शैली को मज़बूती प्रदान की है वहीं नाम शबाना जैसी फिल्म भी बन रही है.

नोट: गलती देखें तो संपादक को सूचित करने के लिए उसे सेलेक्ट कर Ctrl+Enter दबाएं.