बनाएं सुरक्षित पासवर्ड

मैंने अपने ईमेल खाते में हाल में असामान्य गतिविधियां देखीं. ‘मेरे’ द्वारा ‘मुझे’ ही मेल किया जा रहा था. साथ में ‘मेरे’ द्वारा मेरे कांटेक्ट्स को भी मेल भेजा जा रहा था. इसलिए मैनें तुरंत अपने मेल सेवा ऑपरेटर से संपर्क साधा.

उनकी प्रतिक्रिया आश्चर्यजनक थी. उन्होंने कहा कि इन दिनों यह सामान्य सी बात है. उनके मुताबिक, मेरे ईमेल खाते के साथ कोई छेड़-छाड़ या समझौता नहीं किया गया था. ना ही मेरा ईमेल एकाऊंट हैक हुआ था.

तो फिर मुझे असामान्य गतिविधियां क्यों दिख रही थीं ?

मेरे ईमेल क्लाइंट के अनुसार, धोखाधड़ी करने वाले अब ज्यादा होशियार हो गए हैं. वे इस तरह से ईमेल भेजने लगे हैं जो लगता है कि वास्तविक हो. उनके द्वारा प्रेषित ईमेल बिलकुल ऐसा दिखता है मानो आपके किसी दोस्त या सहयोगी ने ही भेजा हो. इसके लिए वे विशेष तरीकों का इस्तमाल कर रहे हैं. उनके लिए वास्तविक दिखने वाला सन्देश बनाना आसान हो गया है.

तो क्या टेक्नोलोजी की तरक्की का लाभ अब फ्राड भी उठाएंगे ?

उनके काम करने का ढंग ही ऐसा है कि वे अपने फ्राड के सहारे रैंडम ईमेल भेजते हैं, स्पैम मेल भेजते हैं. इसी क्रम में वे ऐसा तरीका अपनाते हैं जिससे उनके द्वारा भेजा ईमेल भी आपके द्वारा भेजा गया लगता या दिखता है. यह एक गंभीर चुनौती बनता जा रहा है. क्योंकि वे आपके ईमेल खाते में लाग-इन किये बगैर आपके नाम से ईमेल भेजने में सक्षम हो रहे हैं.

कभी कभी तो वे ऐसा ईमेल जेनरेट करने में भी सफल हो जा रहे हैं जिन्हें देखने से लगता है कि वे ईमेल आपके ईमेल प्रोवाइडर – गूगल, हाटमेल, याहू, रीडिफ़ – द्वारा ही भेजा गया हो.

आधुनिक जमाने के ये स्मार्ट फ्राड अपनी सफाई से आपके मेल फ़िल्टर को भी बाईपास कर जाते हैं और इनके मेल सीधे आपके इनबाक्स में लैंड करते हैं, जिन्हें क्लिक करते ही आपका खाता जाता रहता है.

मेरे दोस्त इस तरह के आश्चर्यजनक और खतरनाक मेलों का जिक्र करते रहते हैं. सच बताइये, क्या आपको ऐसा ईमेल प्राप्त नहीं हुआ जिसमे आपको ‘सूचना’ दी गयी हो कि आप लाखों की लाटरी जीत गए हैं (बिना खेले ही). और क्या आपको पता है कि  आपके मेल द्वारा लोगों को मर्दाना शक्ति बढाने की दवा आफर की जा रही है !

इस तरह की धोखाधड़ी वाले ईमेल निस्संदेह विचारोत्तेजक और आकर्षक विषय लाइनों के साथ भेजे जाते हैं जैसे कि “दिस इज इन्टेरेस्टिंग”, “दिस इज अमेजिंग”, “यू विल लाईक दिस”.

मैं उम्मीद करूंगा कि यह लेख पढ़ने के बाद आप इस तरह के ईमेल की ओर झाकेंगे भी नहीं. संभव हो तो ऐसे मेल प्राप्त होते ही अपने मेल सर्विस प्रोवाइडर को रिपोर्ट करें, या जरूरत पड़ने पर पुलिस को भी सूचना दें. तीन साल पहले जब मेरा ही मेल खाता हैक हो गया था तब उस हैकर ने मेरे सारे मित्रों को मेल भेज कर पैसे भेजने की याचना की थी. उसने ‘मेरे’ मेल से ‘मेरे’ हवाले द्वारा मेरे मित्रों को लिखा था की मैं किसी आवश्यक काम से अचानक ही लंदन आया और वहां मेरे बटुआ चोरी हो गया और में फंस गया हूँ. यह भी अनुरोध किया गया था कि पैसा एक अमुक बैंक एकाऊंट में तत्काल जमा करा दिया जाए.

तब मेरे एक मित्र ने तुरंत ही मुझसे संपर्क किया था जिससे मैं हरकत मे आया और तुरंत आवश्यक कार्यवाई हुई. नहीं तो मेरे कई मित्र तो पैसा जमा करने घर से निकल भी पड़े थे.

फेसबुक पर भी कई लोगों को यह ‘रिसर्च’ करते देखा गया है जिनमें वह खोजते रहते हैं कि वास्तव में उनकी प्रोफाइल को कितने लोगों ने देखा ! यह भी एक फ्राड है, दोस्तों. फेसबुक ने कोई ऐसा प्रोग्राम नहीं बनाया है और ना हीं ऐसी कोई व्यवस्था है जिसके माध्यम से आप इसका पता लगा सकते हैं. सच्चाई तो यह है कि इस तरह के लिंक क्लिक करते ही आपका फेसबुक एकाऊंट हैक हो जाता है.

ट्विट्टर द्वारा भी आपके मेल पर कई डाइरेक्ट मैसेज आते रहते हैं जो प्रथम दृष्टया में ही आपको संदिग्ध लगने चाहिए. ट्विट्टर पर ‘अपने फोल्लोवर्स बढ़ाइये’ जैसे झूठे लिंक भी आपको मेल किये जाते हैं जिनसे भी आपको सावधान रहना चाहिए.

कई बार तो बिलकुल असली दिखने वाले ऐसे मेल आपके ‘सर्विस प्रोवाइडर’ द्वारा ही भेजे प्रतीत होते हैं और आश्चर्यजनक रूप से उन मेलों में आपसे आपके ही यूजर आईडी, पासवर्ड, डेट आफ़ बर्थ आदि जैसी निजी जानकारियाँ मांगी गयी होती हैं. याद रखें, कोई भी सेवा प्रदाता किसी भी स्थिति में ऐसी जानकारी आपसे वास्तव में नहीं पूछता है. निजी जानकारी की मांग वाले मेल बिल्कुल फर्जी होते हैं और उनसे उचित तरह से निपटा जाना चाहिए.

यह भी चेतावनी मिलती है कि आपके द्वारा जानकारियाँ उपलब्ध नहीं कराये जाने की स्थिति में आपका खाता भी बंद किया जा सकता है. ऐसी परिस्थितियों में भी आपको सावधान रहना चाहिए. ऐसे सभी मेल सिर्फ और सिर्फ फर्जी होते हैं.

भारत के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा जारी एक परिपत्र काफी असरदार है. आईटी सुरक्षा का यह अच्छा दिशानिर्देश लगता है. इसे आप यहां क्लिक करके पढ़ सकते हैं.

हां, आप अपने ईमेल का पर्याप्त ध्यान रखिये और नियमित रूप से अपना पासवर्ड समय समय पर बदलते रहिये. यह एक नियमित अभ्यास होना चाहिए. और अगर आपको लगता है कि इस लेख में और भी कुछ जोड़ने की आवश्यकता है तो कृपया उल्लेख करें. आपके अनुभव से लाखों लोगों को लाभ पहुँच सकता है.

भारत बोल रहा है