विराट पर हार सवार

विश्व कप के लिए भारतीय टीम का चयन 15 अप्रैल को होना है और चयनकर्ता प्रमुख एमएसके प्रसाद का कहना है कि चयन समिति के लिए आईपीएल में खिलाड़ियों का प्रदर्शन मायने नहीं रखता है.

लेकिन आम क्रिकेट प्रेमी की नजर में खिलाड़ियों का कोई भी प्रदर्शन हर लिहाज से मायने रखता है.

आईपीएल इस समय अपनी बुलंदी पर चल रहा है और खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर सबकी नजरें टिकी हुई हैं.

विराट कोहली भारतीय कप्तान हैं और आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु टीम के भी कप्तान हैं और उनकी टीम लगातार छह मैच हारकर किसी आईपीएल टूर्नामेंट में सत्र की शुरुआत से लगातार छह मैच हारने के दिल्ली के रिकॉर्ड की बराबरी कर चुकी है.

भारतीय क्रिकेट में मौजूदा समय में सबसे बड़े स्टार विराट की आईपीएल में कीमत सबसे ज्यादा 17 करोड़ रुपये है लेकिन वह कप्तानी के मामले में अपनी कीमत के साथ न्याय नहीं कर पा रहे हैं.

दूसरे नजरिये से देखा जाए तो विराट हाल में लगातार नौ मैच हार चुके हैं.

आईपीएल में लगातार छह मैच हारने से पहले विराट ने ऑस्ट्रेलिया से लगातार तीन वनडे गंवाए थे और वनडे सीरीज 2-3 से गंवाई थी.

भारतीय क्रिकेट में मौजूदा समय में सबसे बड़े स्टार विराट की आईपीएल में कीमत सबसे ज्यादा 17 करोड़ रुपये है लेकिन वह कप्तानी के मामले में अपनी कीमत के साथ न्याय नहीं कर पा रहे हैं.

विराट ने इन छह मैचों में एक-दो अच्छी पारियां ही खेलीं हैं लेकिन जिस विस्फोटक अंदाज में उनके बल्ले से रन निकलने चाहिए वे नहीं निकल पा रहे हैं.

विराट की टीम यदि आईपीएल के प्लेऑफ में नहीं पहुंच पाती है तो वह एक ऐसे कप्तान के रूप में विश्व कप में उतरेंगे जो अपनी टीम को अच्छा प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित नहीं कर पाए.

क्रिकेट से संन्यास लेकर राजनीति में प्रवेश करने वाले पूर्व भारतीय ओपनर गौतम गंभीर ने विराट की कप्तानी को कटघरे में खड़ा कर दिया है.

गंभीर आईपीएल के पिछले सत्र में कोलकाता नाइट राइडर्स का साथ छोड़कर वापस अपनी पुरानी दिल्ली टीम में आए थे और उन्हें कप्तान भी बनाया गया था लेकिन शुरूआती छह में से पांच मैच हारने के बाद गंभीर ने कप्तानी छोड़ दी थी.

गंभीर ने आईपीएल शुरू होने से पहले कहा था कि विराट भाग्यशाली हैं कि एक बार भी आईपीएल नहीं जीतने के बावजूद बेंगलुरु ने उन्हें कप्तानी से बर्खास्त नहीं किया है.

लगातार छह मैच हारने के बाद गंभीर ने विराट पर फिर सवाल उठाते हुए कहा है कि विराट मास्टर बल्लेबाज जरूर हैं लेकिन कप्तानी के मामले में वह नौसखिये हैं.

उन्हें गेंदबाजों को दोष देने के बजाये हार की जिम्मेदारी खुद लेनी चाहिए. विराट ने इसके जवाब में कहा था कि वह इस बात की परवाह नहीं करते कि उनका आकलन आईपीएल नहीं जीतने पर किया जाता है.

विराट चाहे जो भी दावा करें लेकिन वह इस सच्चाई को झुठला नहीं सकते कि आईपीएल में उनकी कप्तानी वाकई नौसखिये वाली रही है जिसमें विपक्षी टीम को समझ पाने की क्षमता नहीं है.

विराट की टीम के गेंदबाजी कोच आशीष नेहरा ने टूर्नामेंट शुरू होने से पहले कहा था कि आईपीएल विश्व कप की तैयारी के लिए शानदार प्लेटफार्म है और विश्व कप के दावेदार खिलाड़ियों को इस मंच का इस्तेमाल अपनी तैयारियों को मजबूत करने के लिए करना चाहिए लेकिन विराट के लिए अब तक विश्व कप की तैयारी सही दिशा में नहीं दिखाई दे रही है.

ऑस्ट्रेलिया के भारत का दौरा करने से पहले तक भारतीय टीम विश्व कप की प्रबल दावेदार मानी जा रही थी लेकिन ऑस्ट्रेलिया से लगातार तीन मैच हारने और आईपीएल में विराट की निराशाजनक कप्तानी ने इन दावों पर ग्रहण लगाया है.

भारत बोल रहा है